शुक्र. जुलाई 30th, 2021
sukanya samriddhi
sukanya samriddhi
सुकन्या समृद्धि योजना के बारे में जानें, Know About Sukanya Samriddhi Scheme.

केंद्र सरकार ने बहुत सारी योजनाएं जनता की भलाई के लिए बनायीं हैं और उन्हें कार्यान्वित किया है।  सरकार की बनायीं और कार्यान्वित योजनाओं से लाखों लोगों को फायदा पहुँचता है। ऐसी ही एक योजना है “सुकन्या समृद्धि योजना”। आईये सुकन्या समृद्धि योजना के बारे में जानें। 

सरकारों के ऐसे प्रयासों से ही आम जनों का जीवन स्तर सुधरता है और उन्हें कामयाबी भी मिलती है। चलिए सुकन्या समृद्धि योजना के बारे में जानें। 

सुकन्या समृद्धि योजना क्या है ?


सुकन्या समृद्धि योजना आपकी बच्ची के उज्जवल भविष्य के लिए, बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ, अभियान के अंतर्गत बनाई गयी है। यह एकमात्र ऐसी योजना है जिसकी ब्याज दर सबसे ज्यादा है इस साल इसकी ब्याज दर 7.6% है और  80 सी के तहत इस योजना में कर लाभ भी मिलता है।

ये योजना छोटी बच्चियों लिए बनी है और  एक छोटी जमा योजना है। इसका खाता बच्चियों के माँ बाप खुलवाते और इसमें पैसा जमा  हैं। ब्याज की दर की समीक्षा हर तीन महीने में की जाती है और घट या बढ़ सकती है। 

माता-पिता अब लड़कियों के लिए दो सुकन्या समृद्धि योजना खाते खोल सकते हैं और जुड़वाँ / ट्रिपल के जन्म के मामले में एक तीसरा खाता खोला जा सकता है। यहां आप योजना के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं कि यह कैसे काम करता है और इसके क्या लाभ हैं:

सुकन्या समृद्धि योजना की मुख्य विशेषताएं

ब्याज दर बहुत अच्छी है और सेक्शन ८० सी के अंतर्गत जमा की गयी राशि पर टैक्स छूट भी मिलती है। 

न्यूनतम रु1,000 का निवेश एक वित्तीय वर्ष में किया जा सकता है।   

अधिकतम निवेश रु 1,50,000 एक वित्तीय वर्ष में किए जा सकते हैं यदि किसी वित्तीय वर्ष में न्यूनतम रु 1000 / – जमा नहीं किया जाता है, तो ५० / – का जुर्माना वसूला जाएगा खाता खोलने की तारीख से। 

अगर कोई खता धारक अपने खाते में कम से कम रु २५० भी न जमा करने की स्थिति में, खाते को निष्क्रिय कर दिया जाता है, लेकिन खाते के समय को पूरे होने(maturity) तक इस पर ब्याज जारी रहेगा। 

खाते में जमा बच्ची की उम्र 14 साल के पूरा होने तक किया जा सकता है खाता खोलने की तिथि से 21 वर्ष पूरा होने पर खाता परिपक्व होगा, बशर्ते कि खाताधारक का विवाह 21 वर्ष की उम्र से पहले हो जाए, अन्यथा  खाते के संचालन की अनुमति नहीं दी जाएगी। खाते को बच्ची की शादी के बाद नहीं चलाया जा सकेगा। 

ग्राहकों को पासबुक जारी की जाएगी। उच्च शिक्षा और विवाह के उद्देश्य के लिए खाता धारक की वित्तीय आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए इस खाते से पैसे निकले जा सकते हैं। 

खाताधारक 18 वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद आंशिक निकासी की सुविधा प्राप्त कर सकता है। यदि खाते की परिपक्वता से पहले लाभार्थी का विवाह किया जाता है, तो खाता बंद करना होगा।

पात्रता 

खाता 10 वर्ष से कम आयु की बालिका के लिए प्राकृतिक या कानूनी अभिभावक द्वारा खोला जा सकता है।

एक जमाकर्ता योजना के नियमों के तहत बालिका के नाम पर केवल एक खाता खोल और संचालित कर सकता है।

एक बालिका के प्राकृतिक या कानूनी अभिभावक को केवल दो बालिकाओं के लिए खाता खोलने की अनुमति है

अगर दो या तीन बच्चियों का जन्म एक साथ होता है तो ऐसी स्थिति में अभिभावक तीन सुकन्या समृद्धि खाते खोल और संचालित कर सकता है। 

इन्हे भी पढ़ें : लेटेस्ट फैशन 

सुकन्या समृद्धि खाता कैसे खुलवाएं ?

बालिका के माता-पिता या कानूनी अभिभावक (10 वर्ष तक की आयु) इस खाते को लड़की के नाम से एक किसी भी बैंक या पोस्ट ऑफिस में खोल सकते हैं। 

इस योजना के लिए ब्याज दर त्रैमासिक लगाई जाती है और यह सरकारी बचत योजनाओं में से एक है। जब लड़की 21 वर्ष की हो जाती है तो सुकन्या समृद्धि खाता परिपक्व हो जाता है।

अभिभावक को पोस्ट ऑफिस या बैंक में उपलब्ध एक सुकन्या समृद्धि खाता फॉर्म (SSA-1) भरना होता है। अभिभावक का नाम, बच्चे का नाम और जन्म प्रमाण पत्र विवरण, अभिभावक की पता और केवाईसी जानकारी को फॉर्म में भरना आवश्यक है।

इन्हे भी पढ़ें : सबसे अच्छी साड़ियां 

खाता खोलने के लिए दस्तावेज

बच्चे का जन्म प्रमाण पत्र। 

अभिभावक का पता प्रमाण- पासपोर्ट, राशन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, उपयोगिता बिल। 

अभिभावक का पहचान प्रमाण – पैन, आधार या पासपोर्ट। 

कम से कम 250 रुपये के शुरुआती योगदान के साथ चेक या नकद।

ये थी जानकारी सुकन्या समृद्धि योजना के बारे में, अगर जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया कमेंट करके बताएं । 


By nand

2 thoughts on “सुकन्या समृद्धि योजना के बारे में जानें, Know About Sukanya Samriddhi Scheme.”

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *